मेरे हिस्से का जादूई आकाश

 

 

jadui akash

 

मेरे हिस्से का आकाश जादूई होगा

जब दुख से किसी बच्चे की आँखें भर आयेंगी
तो सूरज अपनी किरनों को उसके सिर पर फेरकर
प्यार और दुलार से उसके आंसू पोंछ देगा

जब यह दुनिया किसी बच्चे का निश्चछल विश्वास रोंदेगी
तो खूबसूरत इन्द्रधनुश अपनी भव्य छटा बिखेरकर
उसके प्राकृतिक, बाल सुलभ विश्वास को संजोयेगा

जब कोई मासूम अकेला, घबराया हुआ होगा
तो असंख्य तारे टिम्म टिम्म करते, जलते बुझते
उसके सखा बन उसके संग आँख मिचौली खेलेंगे

जब किसी की मैली दृष्टि किसी अबोध पर पड़ेगी
तो श्वेत, स्वच्छ बादल उसका अभेध्य कवच बन
उसकी रक्षा करेंगे , उसे सहेजेंगे

मेरे हिस्से का यह जादूई आकाश हर बच्चे के लिये है
हे जादूई आकाश, इन चमकती आँखों में निश्छलता बनी रहे
हर बचपन मुस्कुराता, खिलखिलाता और जादूई हो

© Sapna Dhyani Devrani 20th July 2017

Spread the love

8 Comments

  • Dr Indu Nautiyal July 20, 2017 (1:56 pm)

    काश कि मेरे पास कोई दैवी शक्ति होती और मै कह पाती एक ही शब्द— ” तथास्तु ”. बहुत दिनों बाद तुम्हें पढ़ कर अच्छा लगा सपना ! क्या हम सचमुच एक ही तरह सोचते हैं !

    • Sapna Dhyani July 21, 2017 (4:40 pm)

      Dear Maám, thank you so very much for the blessings. And I think it is an honour for me if you find some kind of similarity in our thought processes.

  • Jitendra Mathur July 21, 2017 (5:55 am)

    बहुत सुंदर ! हृदयस्पर्शी ! काश संसार के सभी वयस्क इसी तरह सोचें !

    • Sapna Dhyani September 16, 2017 (2:09 pm)

      Thank you for the appreciation. Yes, our little angels deserve this thought!

  • Durga Prasad Dash July 22, 2017 (7:16 am)

    Bahut khub.
    No child should be unhappy, including the one in each of us.

    • Sapna Dhyani July 22, 2017 (7:50 am)

      Thank you Sir. Yes, the child in each one of us should also be full of joy, always.

  • Confused Thoughts August 27, 2017 (2:33 am)

    kisi bhi bachhe kalpnaye achhe se pradarshit hain iss kavita mei, bhut sundar

%d bloggers like this: